Friday, 23 December 2011

17. Bull Temple

I had half a day with me in Bangalore.
One friend advised me to visit Bull Temple. 
The view at the entrance was beautiful.


It was more visible when I actually approached the entrance door at the temple.


Very refreshing.
And the Bull idol is huge.


Well, if God is everywhere, no harm in worshiping IT in the form of a bull.
Outside the temple, the pillar carvings are great.


Overall, it was a very peaceful experience.

12 comments:

  1. Beautiful captures. When in Bangaluru, I too visited this temple. It is known as "Dodda Basawa" in Kannada meaning Big Bull. Long ago I had written about a Peanuts Fair of Bangaluru some excerpts "हमने बात तो प्रारम्भ की थी मूंगफल्ली के मेले की और पहुँच गए नंदी के पास. संभवतः यह हमारी कमजोरी है. लेकिन यहाँ ऐसी बात नहीं है, मूंगफल्ली का नंदी से सीधा सम्बन्ध रहा है. किसी समय बसवनगुडी (इसका मतलब ही होता है नंदी का मन्दिर) के चारों तरफ़ गुट्टाहल्ली, मावल्ली और दसरहल्ली नामके गाँव थे जहाँ की मुख्य कृषि मूंगफल्ली हुआ करती थी. हर पौर्णमि के दिन एक सांड खेतों में घुस कर फसल को बरबाद कर दिया करता था. गाँव वाले परेशान ही थे कि एक दिन किसी को खेत में किनारे पड़ी हुई एक नंदी की मूर्ति मिल गई. उन्होंने उसे एक जगह स्थापित कर दिया और नंदी को पहली पैदावार समर्पित करने की प्रतिज्ञा करते हुए अपने फसल की सुरक्षा के लिए प्रार्थना की. कहते हैं कि उसके बाद सांड का उपद्रव बंद हो गया. यह भी कहा जाता है कि नंदी की प्रतिमा जो कभी छोटी थी, आकार में बड़ी होती चली गई और उसकी बढौतरी को नियंत्रित करने के लिए माथे पर एक कील ठोक दी गई. त्रिशूल नुमा वह कील अभी भी दिखायी देती है. इसी नंदी को केम्पे गौडा के द्वारा आश्रय प्रदान किया गया था. दोड्डा बसवा की सेवा में दूर दूर से गाँव वाले हर वर्ष अपनी मूंगफल्ली भेंट करने पहुँचते है जिसने मेले का रूप धारण कर लिया." http://wp.me/piw5n-cu

    ReplyDelete
  2. Going to the place must be a spiritual experience

    ReplyDelete
  3. Nicely captured the beauty in pics

    ReplyDelete
  4. Nice capture. I've added the place in my t0-visit list :)

    ReplyDelete
  5. PNS Sir, the story about the place is as amusing as is the beauty of the temple. I love that story too. Thanks for reproducing it here.

    ReplyDelete
  6. The Narcissist, don't know. Outer experience many times only reflect our inner state - that is my experience.

    ReplyDelete
  7. Shakti, hope you get an opportunity in near future.

    ReplyDelete
  8. the legends in these places are always fascinating

    ReplyDelete

Note: only a member of this blog may post a comment.